• Homepage
  • >
  • बिजनेस
  • >
  • हर 3-4 साल में बदल दिए जाएंगे बड़े नोट, सिक्युरिटी फीचर्स को और पुख्ता करने का प्लान

हर 3-4 साल में बदल दिए जाएंगे बड़े नोट, सिक्युरिटी फीचर्स को और पुख्ता करने का प्लान

हर 3-4 साल में बदल दिए जाएंगे बड़े नोट, सिक्युरिटी फीचर्स को और पुख्ता करने का प्लान
 
नई दिल्ली। देश में जाली करंसी को रोकने के लिए मोदी सरकार अब बड़ी कीमत के नोटों को और अधिक सुरक्षित बनाने की तैयारी कर रही है। इसके तहत अब 2000 और 500 रुपए के नोटों के सिक्योरिटी फीचर्स को हर 3-4 साल में बदलने की योजना गई बनाई है। पिछले दिनों बड़ी मात्रा में पकड़ में आई फेक करेंसी को देखते हुए वित्त और गृह मंत्रालय की एक उच्चस्तरीय बैठक में इस योजना पर विचार-विमर्श किया गया। सरकार के मुताबिक इस कदम से भारतीय नोटों की नकल करना बेहद मुश्किल होने के साथ-साथ इनकी पकड़ आसान हो जाएगी।
 
अधिकारियों का कहना है कि पिछले साल हुई नोटबंदी के बाद जो नए नोट जारी किए गए हैं, उनमें सिर्फ डिजाइन और साइज ही बदले गए हैं। जबकि, अगर सुरक्षा की बात करें तो नए 2000 रुपए और 500 रुपए के नोट में सुरक्षा के लगभग वही मानक हैं जो पहले 1000 रुपए और 500 रुपए के पुराने नोटों पर होतेे थे। ऐसे में फेक करेंसी छापने वालों के लिए इनकी नकल करना भी मुश्किल नहीं है। इसका अंदाजा पिछले दिनों 2000 रुपए और नए 500 रुपए की फेक करेंसी को देखकर ही लगाया जा सकता है। जिसकी मात्रा करोड़ों रुपए में है।
 
2000 रुपए के नोट में कुल 17 सिक्योरिटी फीचर्स हैं। लेकिन, पिछले दिनों जब्त हुए 2000 के नकली नोटों में 11 चिह्न असली जैसे पाए गए हैं। इनमें ट्रांसपेरेंट हिस्सा, वाॅटरमार्क, अशोक स्तंभ, गवर्नर के सिग्नेचर और हिंदी के फॉन्ट आदि शामिल हैं। नकली नोट में इसके साथ चंद्रयान, स्वच्छ भारत का लोगो और प्रिंटिंग ईयर को भी पिछली तरफ बिल्कुल असली जैसा ही छापा गया है। हालांकि, प्रिंटिंग क्वालिटी और पेपर क्वालिटी के कमजोर रहने के चलते ये नोट पकड़ में आ गए। 
 
  • facebook
  • googleplus
  • twitter
  • linkedin